Telecom Bill 2023: अब फर्जी सिम वालों की खैर नहीं, होगी इतने साल की सजा!

Telecom Bill 2023: आजकल देशभर में कई लोग फर्जी सिम खरीदकर धोखाधड़ी कर रहे हैं। इसके अलावा लोग फर्जी सिम से और भी कई तरह के काम कर रहे हैं. लेकिन इन सबको रोकने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है और नए टेलीकॉम बिल 2023 को लोकसभा में पास करा लिया है।

WhatsApp Group ज्वाइन करे Join Now
Telegram Group ज्वाइन करे Join Now
Instagram Handle Follow Now

दूरसंचार सेवाओं और सोशल मीडिया पर सरकार का नियंत्रण मजबूत करने वाले नए दूरसंचार विधेयक 2023 को लोकसभा में मंजूरी मिल गई है. अब यह बिल राज्यसभा में भेज दिया गया है. नया विधेयक राष्ट्रीय सुरक्षा के हित में दूरसंचार नेटवर्क पर सरकारी नियंत्रण की अनुमति देता है. साथ ही सोशल मीडिया पर नियंत्रण और फर्जी सिम के कारोबार को रोकने के लिए कई नियम और जुर्माने भी शामिल हैं.

Telecom Bill 2023

नए आईटी विधेयक में धोखाधड़ी से सिम या अन्य दूरसंचार संसाधन प्राप्त करने वाले व्यक्ति को तीन साल तक की जेल या 50 लाख रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान है। इसका मतलब है कि फर्जी सिम खरीदने पर आपको 3 साल की जेल और 50 लाख रुपये का जुर्माना लग सकता है। इस विधेयक में उपभोक्ताओं को केंद्र में रखकर और उनके हितों को ध्यान में रखते हुए कानून में प्रावधान किये गये हैं। उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति धोखाधड़ी से सिम प्राप्त करता है तो इसके लिए तीन साल की सजा और 50 लाख रुपये तक का जुर्माना है।

See also  Realme Norzo 70 Pro: धूम मचाने आ रहा है Realme का यह धाकड़ फ़ोन, जाने क़ीमत और स्पेसिफिकेशन्स!

यह नया मैकेनिक भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम 1885, भारतीय टेलीग्राफी अधिनियम 1933 और टेलीग्राफ टेलीग्राफ (गैरकानूनी कब्ज़ा) अधिनियम 1950 का स्थान लेता है। इस गोदाम में नकली सामान खरीदने पर 3 साल की जेल और 50 लाख रुपये तक की सजा का प्रावधान है। इतना ही नहीं, मैकेनिकल इंजीनियरिंग में सिम कार्ड जारी करने से पहले बायो बैंकिंग पहचान करना अनिवार्य कर दिया गया है।

प्रमोशनल कॉल और मैसेज में आएगी कमी

इसके साथ ही मोबाइल उपभोक्ताओं की सबसे बड़ी शिकायत प्रमोशनल कॉल्स को लेकर है. अक्सर आप भी इस समस्या से आए दिन परेशान रहते होंगे। आपको भी समय-समय पर क्रेडिट कार्ड और लोन लेने के लिए कॉल आते रहते होंगे। अब सरकार ने इस समस्या पर लगाम लगाने के लिए इस बिल में प्रावधान किया है. इस बिल में कहा गया है कि इस तरह के प्रमोशनल कॉल और मैसेज भेजने से पहले उनकी सहमति लेनी होगी. इसमें यह भी कहा गया है कि दूरसंचार सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनी को एक ऑनलाइन तंत्र बनाना होगा, ताकि उपयोगकर्ता अपनी शिकायतें ऑनलाइन दर्ज कर सकें।

WhatsApp Group ज्वाइन करे Join Now
Telegram Group ज्वाइन करे Join Now
Instagram Handle Follow Now

Leave a Comment